GST Rules 2024: 1 मार्च से बदल जाएंगे GST के नियम, इन पर पड़ेगा सीधा असर

GST Rules 2024: जैसा कि हम सब जानते हैं केंद्र सरकार और  वित्त विभाग मिलकर लगातार देश की तरक्की के लिए आए दिन कोई ना कोई नये फैसले लेते रहते हैं। ऐसे में यह सारे फैसले शुरुआत में तो नागरिकों के लिए कठिन साबित होते हैं परंतु अगर लंबे समय के लिए देखा जाए तो ऐसे फैसले नागरिकों के हित को देखकर कर ही सरकार द्वारा लिए जाते हैं। इसी कड़ी में जल्द ही केंद्र सरकार GST Rules 2024 में भी बड़ा बदलाव करने वाली है । जानकारी के लिए बता दे 1 मार्च 2024 से सरकार GST Rules 2024 में बड़ा बदलाव करने वाली है।

GST Rules 2024: 1 मार्च 2024 से लागू होंगे नए नियम

हम सबको यह तो पता ही होगा कि देश की सरकार नागरिकों और व्यापारियों द्वारा भरे गए टैक्स पर ही चलती है। यदि इस टैक्स को भरने में इस प्रकार की घोटाले बाजी होने लगी तो देश की सरकार को काफी बड़ा नुकसान झेलना पड़ सकता है और इसी को काबू में करने के लिए नेशनल इनफॉर्मेटिक केंद्र ने हाल ही में एक सर्वे किया था जिसमें कई सारे घोटाले पाए गए और इन्हीं घोटाले को नियंत्रण में करने के लिए अब सरकार GST के नियमों (GST Rules 2024) में एक मार्च 2024 से बदलाव करने वाली है । सरकार के तरफ से खबर आ रही है कि अब 5 करोड रुपए से अधिक का बिजनेस करने वाले कारोबारी बिना ई चालान के ई वे बिल जनरेट नहीं कर पाएंगे । वहीं यदि कोई व्यापारी ₹50000 से अधिक मूल्य का सामान एक राज्य से दूसरे राज्य के बीच ले जा रहा है तो ऐसे में बिना ई वे बिल के ई चालान जेनरेट नहीं किया जाएगा।

e way bill Generate करना हूआ जरूरी

पाठकों की जानकारी के लिए बता दें कि हाल ही में नेशनल इनफॉर्मेटिक केंद्र NIC द्वारा एक सर्वे चलाया जा रहा था ,जिसमें सरकार ने यह पाया कि कई सारे ऐसे टैक्सपेयर ऐसे भी है जो बिजनेस टू बिजनेस और बिजनेस टू एक्सपोर्ट ट्रांजैक्शन के लिए बिना ई-चालान के ही बिल जनरेट कर रहे हैं। इसके अलावा इस पूरी प्रक्रिया में कई सारे नियमों का उल्लंघन भी किया जा रहा है। कई बार तो यह भी पाया गया कि बिजनेस का ई वे बिल और ई चालान दोनों ही मैच नहीं कर रहे। ऐसे में यह माना जा रहा है कि GST Pay करने के दौरान कई सारे घोटाले किए जा रहे हैं  जिस पर काबू पाना सरकार के लिए बेहद ही महत्वपूर्ण है।

PM Scholarship Form 2023: बिटिया को -36000/ , लड़कों को -30000 छात्रवृति, बस भरना होगा ये छोटा सा फॉर्म

PhonePe Loan Online Apply: PhonePe एप्प की मदद से ले सकेंगे 50000 का लोन, नहीं देना होगा ब्याज- जानिए पूरा प्रोसेस

आईए जानते हैं क्या होता है e way bill

e way bill एक दस्तावेज होता है जो माल की आवाजाहि के बारे में संपूर्ण विवरण उपलब्ध कराता है । ऐसे ट्रांसपोर्टर जो ₹50000 से अधिक का सामान एक राज्य से दूसरे राज्य ले जाते हैं उन्हें e way bill जनरेट करना पड़ता है। ई वे बिल का मुख्य उद्देश्य एक राज्य से दूसरे राज्य में माल की आवाजाही के लिए एक एकीकृत ई वे बिल उपलब्ध कराना है जिससे कि एक राज्य से दूसरे राज्य में माल की आवाजाही के दौरान पेपरलेस आवाजाही को सक्षम बनाया जा सके।

 यह बिल GST Common Portal के द्वारा जनरेट किया जाता है जो की माल की आवजाही के लिए बेहद आवश्यक है।  ई वे बिल माल भेजने वाले और माल पर प्राप्त करने वाले द्वारा जनरेट किया जा सकता है जिसके माध्यम से सरकार को भेजे गए माल पर जीएसटी भरना पड़ता है। परंतु इसी ई वे बिल जेनरेट और ई-चालान के भुगतान में कई बार धोखेबाजी और फर्जीवाडा किया होता हुआ पाया गया है जिसकी वजह से सरकार को गुड्स एंड सर्विस टैक्स पर होने वाली रेवेन्यू में काफी घाटा हो रहा है ।इस प्रकार इस होने वाले धोखेबाजी और घाटे को रोकने के लिए अब National Informatics Centre ने GST में कुछ बड़े बदलाव (GST Rules 2024) करने का निर्णय लिया है जिसे एक मार्च से देश भर में लागू किया जाएगा।

GST Rules 2024: क्या है नया नियम

1 मार्च 2024 से अब कोई भी ट्रांसपोर्टर बिना ई-चालान के e way bill जनरेट नहीं कर पाएगा इसके अलावा यह नियम केवल ई चालान के पात्र टैक्स पेयर पर लागू होगा । इसके साथ ही NIC ने यह साफ तौर पर बता दिया है कि ग्राहकों और अन्य तरह के ट्रांजैक्शन के लिए ई वे बिल जनरेट करने के लिए ई चालान की कोई आवश्यकता नहीं पड़ेगी और इसका असर अन्य ग्राहकों पर बिल्कुल भी नहीं होगा।

निष्कर्ष: GST Rules 2024

इस प्रकार 1 मार्च 2024 से केंद्र सरकार GST के नियमों में बड़ा बदलाव करने वाली है जिससे ई चालान के पात्र टैक्स पेयर्स पर अब कड़ी नजर रखी जाएगी और जीएसटी में होने वाली धोखाधड़ी को पूरी तरह से रोकने की कवायत शुरू की जाएगी।

sscnr

Leave a Comment